श्री देवाशीष दास, विशिष्ट वैज्ञानिक एवं निदेशक, आरआरकेट 

श्री देवाशीष दास मैसूर विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में बी.टेक हैं और 1983 में भापअके प्रशिक्षण विद्यालय के 26 वें बैच द्वारा भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (BARC) में नियुक्त हुए। वह इलेक्ट्रॉनिक्स शाखा में भापअके प्रशिक्षण विद्यालय के होमी भाभा पुरस्कार से सम्मानित हैं ।

श्री दास भापअके और पऊवि की अन्य इकाईयों में जिम्मेदार पदों पर कार्यरत रहे हैं । वे जनवरी, 2015 से अक्टूबर, 2016 की अवधि के दौरान इलेक्ट्रॉनिक्स डिवीजन, भापअके के प्रमुख थे तथा तत्पश्चात, उन्होंने विशिष्ट वैज्ञानिक के रूप में 01 नवंबर, 2016 से सह निदेशक (इ), इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंस्ट्रूमेंटेशन (इ व आई) वर्ग, भापअके का कार्याभार ग्रहण किया । श्री दास ने नवंबर, 2016 से जून, 2018 तक इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (इसीआईएल), हैदराबाद के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) के रूप में अतिरिक्त जिम्मेदारी का भी वहन किया ।

श्री दास ने विविध क्षेत्रों में कार्य किया है - इनमें अनुसंधान रिएक्टर एवं पीएचडबल्यूआर (220 MWe & 540 MWe) की नियंत्रण तथा सुरक्षा प्रणाली, परमाणु उपकरणों के फ्रंट-एंड इलेक्ट्रॉनिक्स हेतु रोबोटिक्स, हाइब्रिड्स एवं एएसआईसी, सेमीकंडक्टर पर आधारित विकिरण संसूचक एवं अन्य वाइड बैंड गैप मैटेरियल्स शामिल हैं । उन्होंने स्वदेशी उच्च तापमान (6000C) न्यूट्रॉन डिटेक्टरों और फास्ट ब्रीडर रिएक्टर कार्यक्रम के लिए परमाणु प्रणालियों और परमाणु डिटेक्टरों के लिए विकिरण डिटेक्टरों और प्रणालियों का विकास किया है । उन्होंने आगामी परमाणु सुविधाओं हेतु मानकीकृत सेफ एंड सिक्योर सी एंड आई सिस्टम, एमएसीई (MACE) टेलीस्कोप हेतु कैमरा इलेक्ट्रॉनिक्स, सुरक्षा प्रणालियों तथा पऊवि की कई तकनीकी रूप से चुनौतीपूर्ण सामरिक महत्व की परियोजनाओं के विकास हेतु टीम का नेतृत्व किया है ।

श्री दास ने अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, इसीआईएल के रूप में नाभिकीय के अलावा रक्षा, एयरोस्पेस, सुरक्षा और ई-गवर्नेंस जैसे क्षेत्रों में राष्ट्रीय महत्व की कई परियोजनाओं को पूरा किया है । इन उपलब्धियों में इसीआईएल द्वारा बनाया गया स्वदेशी एक्स-बैंड एक्टिव रडार सीकर का मिसाइल परीक्षण, लो ऑर्बिट ट्रैकिंग एंटीना प्रणाली, सैटेलाइट लॉन्च की ट्रैकिंग के लिए 4.6 मी शिप बॉर्न टर्मिनल, एमएचआरडी के स्वयं प्रभा कार्यक्रम हेतु एंटीना प्रणाली एवं इलेक्ट्रॉनिक मास मैन्युफैक्चरिंग हेतु अत्याधुनिक सुरक्षित सुविधा स्थापित करना शामिल हैं – जिसका उपयोग तत्पश्चात, लोकसभा 2019 चुनावों के लिए ईवीएम और वीवीपीएटी के उत्पादन हेतु किया गया । उनके कार्यकाल के दौरान, इसीआईएल कंपनी ने प्रतिस्पर्धी बिडिंग में बड़े आर्डर प्राप्त किए । कंपनी को 'स्वयं प्रभा' कार्यक्रम में योगदान हेतु भारत के माननीय राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया गया है एवं उत्कृष्टता तथा सार्वजनिक क्षेत्र प्रबंधन में उत्कृष्ट योगदान के लिए कंपनी ने अप्रैल,2017 में स्कोप (SCOPE) अवार्ड भी प्राप्त किया ।

श्री दास को अनेक पऊवि उत्कृष्टता समूह उपलब्धि पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है एवं उन्होंने पऊवि विशेष योगदान पुरस्कार भी प्राप्त किया है ।

सर्वोतम नज़ारा १०२४ x ७६८